UFS Monthly Film Screening

February 2018

Report

For this month we watched a documentary film ‘Soz: A ballad of maladies’ directed by Tushar Madhav and Sarvanik Kaur. The screening was hosted at Bougainvillea art gallery. Around 20 guests came for the screening.

Soz_Screening_Poster2

All those present were aware of the grim situation of Kashmir. The issues were well put by Jatin and other members. But we are often at a loss to sort the truth from lies, reality from propaganda, life and culture from politics. Lines become further blurred when looked through the lens of nationalism, patriotism, and loyalties. This is the theme that the film touches upon. It analyses recorded history against the lived history of Kashmiris, questions the conflict of the dominant culture of the ruler with the dominated culture of the masses. There are narratives of a poet-historian, a hip-hop artist, a rock band, a journalist, a cartoonist among others all of whose approach to activism and resistance is radically different from what is generally portrayed, but they are all united for social justice.

27657596_1638021376277542_9183242458361782616_n

The key here is to read between the lines. In hip-hop content, for instance, Beethoven’s uplifting sonata is the background for the deeply disturbing reality of Kashmiri youth left with few choices other than militancy. Another detail that tends to get missed out or subconsciously glossed over is how the director gives space to the introspective voice that says let us not romanticise Kashmiriyat to the extent of fundamentalism and status quoism.

The seemingly dead-end debate of violence against Kashmiri pandits used as a pretext for revenge anywhere and everywhere – for this too the record is set right. Here, cultural loyalty is above personages, irrespective of religion. Hindus could be comrades, while Muslims could be traitors to the cause of ethnicity, called Kashimiriyat. Narrative constantly, in all forms, holds up the nonviolent dialogue as the only way ahead, as well as problematising it.

In all, the venue- art gallery was an apt venue for the spectacular film, where subject melted into the landscape. All of us went back with lots to think about and revisit our ideas about what popular media serves us.

27858008_1638021299610883_1394803532288293642_n (1)

Interestingly, Udaipur on the same evening hosted an international level music festival with artists from all over the world. The event was funded by mining conglomerates like Vedanta. UFS managing to pull even 20 odd people to watch a documentary film on the same date, that caters to masses and not to classes, raises consciousness rather than numbing them down is a positive sign for UFS to march on!

A word about the discussion on WhatsApp group of UFS deserves mention. I raised the concern that maybe we don’t need to do collective screenings because so much interesting stuff that challenges status quo is available to everybody at just a finger sweep. Evidently, watching something together, where responses snowball, consent or dissent gets manufactured much more strongly, all this and secondly, an expert view and suggestions (in this case, CoR) make a huge difference too.

27750155_1638021329610880_3953962508218766598_n

A date for a screening of next month is tentative – second Sunday of March. A suggestion was made by Shubham, a member of our Udaipur team, for the next screening – Ship of Theasus. The final decision will be made after discussion.

Thanks are due to Megha and Rinku, UFS convenors who coordinated the screening, may they continue to do so! To Saurabh for suggesting the film, Nitesh, and Dharmu and others for provoking us, and Shailendra for being there!  I can thank myself for thanking others!

Pankhuri

Advertisements

वो भूली दास्ताँ लो फिर याद आ गयी

भारत वाचिक परंपरा का देश रहा है. पुराण और पंचतंत्र से लेकर जातक कथाओं तक हमारे यहाँ कहानियां सुनने सुनाने का सिलसिला बहुत पुराना है. यही कारण है कि ईरान में आठवीं सदी में जन्मी दास्तानगोई जब भारत आयी तो उसे हाथों हाथ लिया गया. हमारा मध्यकाल उन कई कई रातों का गवाह है जब दास्तानगो लम्बे लम्बे चलने वाले किस्से को किश्त दर किश्त सुनाते थे और सुनने वाले उस दिलकश अंदाज़ से बंधे हर रात सुनने के लिए इकट्ठे होते थे. मध्यपूर्व में दास्तानगोई में अमूमन जंग और मोहब्बत यही मुख्य विषय होते थे लेकिन भारत में इसमें दो और आयाम जुड़े – तिलिस्म और अय्यारी.

18 वीं – 19 वीं सदी भारत में दास्तानगोई के उरूज़ का समय है. मिर्ज़ा ग़ालिब ने कहा था कि हमज़ा दास्तान के आठ अध्याय और शराब के सोलह पीपे – इसके बाद ज़िंदगी से कुछ और नहीं चाहिए !

लेकिन समय बीता. ब्रिटिश शासन में जिन विधाओं को सस्ता और भदेस कहकर हिकारत से नकारा गया, उनमें दास्तानगोई भी थी. मीर बाकर अली इस दास्तानगोई की परंपरा के आख़िरी वारिस थे. 1928 में उनके देहांत के साथ इसका नामो निशान मिट गया.

dastangoi 2

21 वीं सदी में इसके पुनः जीवित हो उठने की कहानी भी बड़ी रोचक है. ये न होता यदि शम्सुर्रहमान फ़ारूकी न होते और उससे भी पहले मुंशी नवल किशोर न होते. 19 वीं  सदी के अंतिम दशकों और 20 वीं सदी के शुरूआती दो दशकों में मुंशी नवल किशोर की प्रेस ने इन दास्तानों को छापा था. कुल 46 जिल्द, लगभग 44 हज़ार पृष्ठ और कोई 2 करोड़ लफ्ज़ किताबों में दर्ज होकर यह इन्तेज़ार कर रहे थे कि कोई आये और इन्हें देखे, अपनी रिवायत को पहचाने.

उर्दू के प्रसिद्द आलोचक शम्सुर्रहमान फ़ारूकी ने अपने शोध के सिलसिले में कुछ जिल्दों को उल्टा पलटा. वे इनके हैरतअंगेज़ वर्णन से चकित रह गए, फिर उन्होंने इन 46 जिल्दों को ढूँढने का बीड़ा उठाया. हिन्दुस्तान के अलग अलग संग्रहालयों से जुटाकर इन्हें फिर से बटोरा गया और फिर इस कहानी में आये महमूद फ़ारूकी जिन्होंने इन दास्तानों को फिर से पेश करने का इरादा किया.

सन 2005 में दास्तानगोई की पहली प्रस्तुति हुई. प्रस्तुतकर्ता थे महमूद फ़ारूकी और हिमांशु त्यागी. इसे बहुत सराहना मिली और फिर तो सिलसिला चल निकला. महमूद फ़ारूकी और दानिश हुसैन की जोड़ी ने न सिर्फ पुरानी दास्तानों जैसे दास्तान-ए-अमीर हमज़ा को आज के हिसाब से थोडा ढालकर प्रस्तुत किया बल्कि उन्होंने आज के मसाइल को उठाते हुए नई दास्तानें भी लिखीं. बिक्रम बेताल से लेकर विजयदान देथा कृत राजस्थानी लोककथा चौबोली तक सभी कुछ इनका हिस्सा बनीं. विभाजन के दर्द को दास्तान-ए-तकसीम-ए-हिन्द में बयान किया गया तो दास्तान-ए-मोबाइल से लेकर दास्ताने कारपोरेट तक कोई विषय अछूता नहीं रहा. अंकित चड्ढा, हिमांशु बाजपेयी, राणा प्रताप सेंगर, राजेश कुमार नई पीढी के दास्तानगो सामने आये हैं जो अब इस सिलसिले को थमने नहीं देंगे.

‘दास्तान-ए-सेडीशन’, जो हमारे इस फेस्टिवल में प्रस्तुत की जायेगी, 2007 में लिखी गयी थी जब डॉ. बिनायक सेन को राजद्रोह के आरोप में सज़ा हुई थी. बहुत लोकप्रिय हुई इस दास्तान में दास्तानगो, अय्यार अमर ( यानी हीरो )  और जादूगरों के सरदार अफरासियाब ( यानी विलेन ) की कहानी सुनाते हैं. कहानी है कोहिस्तान की और धीरे धीरे इस कोहिस्तान में हमारा वर्तमान भारत घुल मिल जाता है.

अमर और अफरासियाब की इस लड़ाई में होता क्या है, जानने के लिए आपको राणा प्रताप सेंगर और राजेश कुमार की यह नायाब प्रस्तुति देखने आना होगा.

dastangoi 1

राणा प्रताप सेंगर और राजेश कुमार

 

26 नवम्बर ( दूसरा दिन ) / 3.45 – 4.45 /  दास्तान-ए-सीडीशन/ लेखन-निर्देशन – महमूद फ़ारूकी / प्रस्तुति – राणाप्रताप सेंगर और राजेश कुमार/ हिंदुस्तानी / 60 मिनट